हॉरर फिल्में पसंद करती है सान्या मल्होत्रा |

पहले चरण के लिए नामांकन शुरू, इन सीटों पर होगा मतदान: लोकसभा चुनाव |

मैं किसी पार्टी के लिए प्रचार नहीं करता: आमिर ख़ान |

प्रधानमंत्री मोदी हिंदूस्तान के सविंधान को खत्म करना चाहते हैं – राहुल गांधी |

अक्षय कुमार ने परफॉर्म किया फायर स्टंट, पत्नी बोली- 'घर आओ तुम्हारी जान ले लूंगी' |

पाकिस्तान में मसूद अजहर के रिश्तेदारों समेत 44 हिरासत में |

देश की नजरें चुनाव आयोग पर |

भगवान शिव का वो मंदिर, जिसके सजदे में झुकता है पाकिस्तान! |

भारत पहुंचे विंग कमांडर अभिनंदन, मेडिकल परीक्षण के लिए ले जाया गया |

हंदवाड़ा में आतंकी हमला, 4 सुरक्षाकर्मी शहीद, 8 घायल |

हिंदुस्तान की जीत का अभिनंदन, पाकिस्तान ने पायलट को भारत को सौंपा |

खुफिया एजेंसियों का अलर्ट, आतंकियों के निशाने पर दिल्ली के 29 महत्वपूर्ण स्थान |

थोड़ी देर में हिंदुस्तान की जीत का अभिनंदन, अटारी बॉर्डर पहुंचे वायुसेना के अधिकारी |

सेना ने खोली पाकिस्तान की पोल, दुनिया के सामने रखे सबूत |

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश |

प्रयागराज

आतंकियों की 18 गोलियां लगने के बाद भी बच गए थे ये संत, अब लोग कहते हैं राइफल वाले बाबा

22-01-2019

कुंभ में संतों का मेला है। यहां करीब 49 किलोमीटर के दायरे में फैले मेले में अलग-अलग रूपों में संतों को रेला देखने को मिल रहा है। श्रीपंच शम्भू अग्नि अखाड़ा के अद्वैतय चैतन्य ब्रह्मचारी महाराज का स्वरूप सबसे अलग है। वह शरीर पर भगवा चोला ओढ़े हैं। हाथ में राइफल, कमर में रिवाॅल्वर और राइफल के कारतूस का पट्टा उन्हें संतों की कतार से अलग पेश करती है। चैतन्य बाबा का दावा है कि इन्होंने एक बार आतंकियों से भी लोहा लिया था। उस समय 18 गोलियां शरीर पर लगी थीं। इसके बाद भी मौत को मात देकर आए हैं।

अद्वैतय चैतन्य महाराज बताते हैं- " वह 80 के दशक में शीतला मंदिर, बंगा (जालंधर, पंजाब) में रहते थे। उस समय पंजाब में खालिस्तानी आतंकी काफी उग्र थे। मैं साधू था। मुझे अपनी मंदिर की देखभाल करनी होती थी। 8 मई 1987 को आतंकियों ने मंदिर पर हमला कर दिया। मैंने अकेले आतंकियों से मोर्चा लिया। मुझे कनपटी समेत शरीर में 18 गोलियां मारी गईं। लेकिन, मां गायत्री और परशुराम भगवान की कृपा से मेरी जान बच गई।"

Author : Admin