हॉरर फिल्में पसंद करती है सान्या मल्होत्रा |

पहले चरण के लिए नामांकन शुरू, इन सीटों पर होगा मतदान: लोकसभा चुनाव |

मैं किसी पार्टी के लिए प्रचार नहीं करता: आमिर ख़ान |

प्रधानमंत्री मोदी हिंदूस्तान के सविंधान को खत्म करना चाहते हैं – राहुल गांधी |

अक्षय कुमार ने परफॉर्म किया फायर स्टंट, पत्नी बोली- 'घर आओ तुम्हारी जान ले लूंगी' |

पाकिस्तान में मसूद अजहर के रिश्तेदारों समेत 44 हिरासत में |

देश की नजरें चुनाव आयोग पर |

भगवान शिव का वो मंदिर, जिसके सजदे में झुकता है पाकिस्तान! |

भारत पहुंचे विंग कमांडर अभिनंदन, मेडिकल परीक्षण के लिए ले जाया गया |

हंदवाड़ा में आतंकी हमला, 4 सुरक्षाकर्मी शहीद, 8 घायल |

हिंदुस्तान की जीत का अभिनंदन, पाकिस्तान ने पायलट को भारत को सौंपा |

खुफिया एजेंसियों का अलर्ट, आतंकियों के निशाने पर दिल्ली के 29 महत्वपूर्ण स्थान |

थोड़ी देर में हिंदुस्तान की जीत का अभिनंदन, अटारी बॉर्डर पहुंचे वायुसेना के अधिकारी |

सेना ने खोली पाकिस्तान की पोल, दुनिया के सामने रखे सबूत |

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश |

मनोरंजन

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया दिव्या भारती ने

2019-02-24 10:55:35

..जन्मदिन 25 फरवरी  ..

मुंबई 24 फरवरी।( युनाइटेड न्यूज टाइम ) /बॉलीवुड में दिव्या भारती को एक ऐसी अभिनेत्री के रुप में याद किया जाता है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी।
मुंबई में 25 फरवरी 1974 को जन्मी दिव्या भारती ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1990 में प्रदर्शित तेलगु फिल्म बोबली राजा से की। बॉलीवुड में उन्होंने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1992 में प्रदर्शित राजीव राय की फिल्म विश्वात्मा से की। इस फिल्म में दिव्या भारती उन पर फिल्माया गाना..सात समुंदर पार मैं तेरे पीछे पीछे आ गयी..दर्शकों के बीच आज भी लोकप्रिय है।

वर्ष 1992 में ही दिव्या भारती की शोला और शबनम, दिल का क्या कसूर, दीवाना, बलवान और दिल आशना है जैसी कई फिल्में प्रदर्शित हुयी। दीवाना के लिये उन्हें फिल्म फेयर की ओर से डेब्यू अभिनेत्री का पुरस्कार दिया गया। वर्ष 1992 से वर्ष 1993 के बीच दिव्या ने बॉलीवुड की 14 फिल्मों में काम किया जो आज भी नयी अभिनेत्री के लिये एक रिकार्ड है।

दिव्या ने वर्ष 1992 में जानेमाने फिल्मकार साजिद नाडियाडवाला के साथ शादी कर ली लेकिन शादी के महज एक वर्ष के बाद 05 अप्रैल 1993 को एक इमारत से गिरकर उनकी मौत हो गयी। मौत के बाद उनकी फिल्म रंग और शतंरज प्रदर्शित हुयी। रंग टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुई।

Author : संतोष यादव


Showing page: 1/1